Album Blurred Banner Image

Jaane Kyon Log Mohabbat Kiya Karte Hain (Revival) Song

Jaane Kyon Log Mohabbat Kiya Karte Hain (Revival) Song Lyrics

Is zamane mein is mohabbat ne
Kitane dil tode kitane ghar phuunke
Jaane kyon log mohabbat
Kiya karate hain
Jaane kyon log mohabbat
Kiya karate hain
Dil ke badale dard e
Dil liya karate hain
Jaane kyon log mohabbat
Kiya karate hain


Tanhaai milati hai
Mahafil nahin milati
Raahein mohabbat mein
Kabhi manzil nahin milati
Dil tut jaata hai nakam hota hai
Ulfat mein logon ka
Yahi anjaam hota hai
Koi kya jaane
Kyon ye paravaane
Kyon machalate hain
Gham mein jalate hain
Aahein bhar bhar ke
Deewane jiya karate hain
Aahein bhar bhar ke
Deewane jiya karate hain
Jaane kyon log mohabbat
Kiya karate hain


Saavan mein aankhon
Ko kitana rulaati hai
Furaqat mein jab dil
Ko kisi ki yaad aati hai
Ye jindagi yuun hi
Barabaad hoti hai
Har vaqt honthon
Pe koi fariyaad hoti hai
Na davaaon ka
Naam chalata hai
Na duaaon se
Kaam chalata hai
Jahar ye phir bhi sabhi
Kyon piya karatein hain
Jahar ye phir bhi sabhi
Kyon piya karatein hain
Jaane kyon log mohabbat
Kiya karate hain


Mahabuub se har gham
Manasuub hota hai
Din raat ulfat mein
Tamaasha khuub hota hai
Raaton se bhi lambe
Ye pyaar ke kisse
Aashiq sunaate hain
Jafaa e yaar ke qisse
Bemuravvat hai
Bewafa hai wo
Us sitamagar ka
Apane dilabar kaa
Naam le le ke duhaai
Diya karate hain
Naam le le ke duhaai
Diya karate hain
Jaane kyon log
Mohabbat kiya karate hain

Jaane Kyon Log Mohabbat Kiya Karte Hain (Revival) Song Lyrics in Hindi

"इस ज़माने में इस मोहब्बत ने
कितने दिल तोड़े कितने घर फूँके

जाने क्यों लोग मुहब्बत किया करते हैं - २
दिल के बदले दर्द-ए-दिल लिया करते हैं
जाने क्यों लोग मुहब्बत किया करते हैं

तन्हाई मिलती है, महफ़िल नहीं मिलती
राहें मुहब्बत में कभी मन्ज़िल नहीं मिलती
दिल टूट जाता है, नाकाम होता है
उल्फ़त में लोगों का यही अन्जाम होता है
कोई क्या जाने, क्यों ये परवाने,
क्यों मचलते हैं, ग़म में जलते हैं
आहें भर भर के दीवाने जिया करते हैं - २
जाने क्यों लोग मुहब्बत किया करते हैं

सावन में आँखों को, कितना रुलाती है
फ़ुरक़त में जब दिल को किसी की याद आती है
ये ज़िन्दगी यूँ ही बरबाद होती है
हर वक़्त होंठों पे कोई फ़रियाद होती है
ना दवाओं का नाम चलता है
ना दुआओं से काम चलता है
ज़हर ये फिर भी सभी क्यों पिया करतें हैं - २
जाने क्यों लोग मुहब्बत किया करते हैं

महबूब से हर ग़म मनसूब होता है
दिन रात उल्फ़त में तमाशा खूब होता है
रातों से भी लम्बे ये प्यार के किस्से
आशिक़ सुनाते हैं जफ़ा-ए-यार के क़िस्से
बेमुरव्वत है, बेवफ़ा है वो,
उस सितमगर का अपने दिलबर का,
नाम ले ले के दुहाई दिया करते हैं - २
जाने क्यों लोग मुहब्बत किया करते हैं"



90 sec preview Mere Khwabon Mein Dilwale Dulhania Le Jayenge
Added to Cart
Add